Sydney में James Smith के Murder की कहानी। यह 1935 की बात  है। यह सिडनी शहर की बात है। एक बाप और बेटे दोनों की वहीं पर सिडनी में ही Coogee मछलीघर का  बिजनेस करा करते थे। उसमें ब्रिज के किनारे पर लोग आते थे। मछलीघर में मछलियां देखा करते थे। साथ में उनके 14 सीटों का एक थिएटर था। इनका कारोबार सही चल रहा था। लेकिन 1935 में वहां पर अचानक कुछ ऐसी चीजें हुई जिससे उनका धंधा मंदा हो गया।

लोग beach पर आने कम हो गए। उससे इनके बिजनेस में काफी लॉस हो रहा था। उसको लेकर हॉप्सन काफी परेशान था। इसी दौरान दूसरी तरफ 8 अप्रैल 1935 को सिडनी का एक शख्स गायब हो जाता है। उसकी बीवी से गायब होने की रिपोर्ट लिखवा देती है। पुलिस उसको तलाश करती है। पर वह नहीं मिलता। तभी एक दिन समुंदर के किनारे पर हॉप्सन वह अपने दोस्तों के साथ जा रहा था। इत्तेफाक से उसको एक शार्क मछली मिलती है। टाइगर शार्क तकरीबन 12 फुट लंबी थी।

रोल अपने साथियों की मदद से शार्क को अपने कब्जे में ले लेता है। उसके बाद उसको लेकर वह अपने बीच पर पहुंच जाता है। सार्क को देखकर उसके पिता हॉप्सन भी काफी खुश होते हैं।

वह उस टाइगर शार्क को अपने मछलीघर में रखने का इरादा कर लेते हैं। उसको वहां पर रखा गया। इसके बाद उसी दौरान में होता यह है कि जब उसको लाकर वहां पर रखते हैं। उस टाइगर शार्क के बारे में खबर फैल जाती है और लोग वहां आने शुरू हो जाते हैं। लोग उसे देखना शुरू कर देते हैं और उनका धंधा फिर से चलना शुरू हो जाता है।

इस दौरान में लोगों की काफी भीड़ बढ़ चुकी थी। 25 अप्रैल 1935 की तारीख आती है। उस वक्त ऑस्ट्रेलिया में छुट्टी थी। क्योंकि वहां पर नेशनल हॉलिडे था। तो उस दिन लोगों की वहां पर काफी भीड़ बढ़ रही थी। इसको देखकर हॉप्सन काफी खुश था। जो कि शार्क मछली को देखने के लिए काफी लोग वहां पर आ रहे थे।

लेकिन सार्क यहां आने के बाद काफी चिड़चिड़ा हो चुका था। और काफी अलग हरकतें कर रहा था। शाम के करीब 4:30 बजे थे। 4:30 बजे सार्क पानी के नीचे जाता है। वहां पर एक रिपोर्टर उसको रिपोर्ट करने के लिए वहां पर आया हुआ था। अचानक टाइगर शार्क का बर्ताव चेंज होता है। और वह उल्टी करना शुरू कर देता है।

जब वह पहली बार उल्टी करता है तो उसके मुंह से एक चूहा बाहर आता है। जब वह दूसरी बार उल्टी करता है तो एक चिड़िया उसके मुंह से बाहर आती है। धीरे-धीरे को पानी के ऊपर आना शुरू हो जाता है और लोग उसे देख रहे थे।

तीसरी बार जब उल्टी करता है तो सारे लोग चौंक जाते है। उसके मुंह से एक इंसान का पूरा हाथ बाहर निकला था। जब उस इंसान का हाथ वहां पर देखा तो सभी लोग घबरा गए और चीखने लगे।

इसके बाद किसी ने पुलिस को खबर दी पुलिस वहां पर पहुंच जाती है। उस हाथ को किसी तरीके से बाहर निकाल लेती है।

पुलिस उस हाथ को अपने कब्जे में ले लेती है। उसको जांच के लिए भेज देती है। उस हाथ की एक पहचान थी कि उस हाथ पर तो टैटू बने हुए थे और उस टैटू में दो बॉक्स बने हुए थे। जब फॉरेंसिक एक्सपर्ट उस हाथ की जांच करते हैं तो हैरान रह जाते वह कहते हैं कि इस हाथ को सार्क ने नहीं खाया बल्कि किसी तरीके से इस हाथ को काटा गया है।

अब सवाल यह था कि उस शार्क के पेट में यह हाथ कैसे पहुंचा जबकि उसके हाथ पर शार्क के दांत के निशान भी नहीं थे। तो वह हाथ किसने काटा और किसने उसके पेट में उसको पहुंचाया।

जब फॉरेंसिक की रिपोर्ट आती है तो पता चलता है कि उस शार्क ने किसी हाथ को बाहर नहीं निकाला था बल्कि एक क़त्ल के राज को उगला था।

इसके बाद वहां की डिटेक्टिव एजेंसी उस हाथ की तस्वीर वहां के लोकल अखबार में छपवा देती है। क्योंकि यह साफ हो चुका था कि यह एक कत्ल का मामला है।

उस हाथ का फोटो अखबार में छप जाता है। इसके बाद पुलिस इंतजार करती है। तभी एक शख्स 2 दिन बाद उस हाथ की तस्वीर अखबार में देखकर वहां की पुलिस को संपर्क करता है। उस शख्स का नाम Edward Smith था। वह शख्स बताता है कि यह जो टैटू हाथ पर बना हुआ है उसी के जैसा टैटू मेरे भाई के हाथ पर भी बना हुआ था और वह 8 अप्रैल से गायब है।

james smith murder
James Smith

अब जैसे ही वह पुलिस के पास पहुंचता है और यह बात बताता है। पुलिस इसकी जांच करती है तो पता चलता है। वह जो शख्स आया था उसका भाई का नाम James Smith था। वह 8 अप्रैल से गायब था। उसकी पत्नी ने उसकी गायब होने की रिपोर्ट लिखवाई थी। उसका कोई सुराग नहीं मिला था। अब उसकी पत्नी ने भी उसके हाथ को पहचान लिया था। वह इसकी गवाह थी कि यह हाथ जेम्स का ही है। जेम्स काफी दिनों से गायब था।

इसके बाद सिडनी की एजेंसी ने इसकी छानबीन शुरू कर दी। जब छानबीन शुरू की तो पता चला की जेम्स को आखिरी बार सिडनी में जिस शख्स के साथ देखा गया था उसका नाम Patrick Francis Brady था। Patrick Francis Brady एक जालसाज था। वह नकली पेपर बगैरा तैयार किया करता था। वह एक सर्विसमैन भी था। जो नौकरी छोड़ चुका था और जेल जा चुका था।

इन फोटो को देखने के बाद एक टैक्सी ड्राइवर ने बताया कि उसने Smith को आखरी बार Brady के साथ देखा था। उसने कोट पहना हुआ था और उसके दोनों हाथ अपनी जेब में डाली हुई थी। और उसमें से एक हाथ उसने अपने जेब से बाहर ही नहीं निकाला था।

पुलिस ने बताया कि उसने उसको जिस घर के सामने छोड़ा उस घर के मालिक Reginald William Lloyd Holmes सिडनी की एक बड़े बिजनेसमैन थे। उनका एक बड़ा कारोबार था। जो बोट को बनाकर बेचा करते थे लेकिन साथ में Holmes का एक दूसरा कारोबार भी था। जो ड्रग्स का था। वो ड्रग्स और अफीम को बोट के जरिए सप्लाई किया करता था।

कहीं से यह ताल्लुक साबित हुआ था कि Brady और Smith थ इसके साथ काम किया करते थे। जब यह खबर पुलिस के पास आई तो पुलिस ने Brady को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार करने के बाद से पूछताछ की लेकिन Brady ने पुलिस की कोई मदद नहीं की और वह बार-बार कहता रहा कि मेरा James Smith के murder से कोई ताल्लुक नहीं।

पुलिस ने Brady की छानबीन की तो पता चला। उसने सिडनी में ही एक Cottage किराए पर लिया हुआ था और उस Cottage में आता जाता था। छानबीन की तो पता चला कि आखरी बार 8 अप्रैल को स्मिथ अपनी बीवी से यह कहकर निकला था कि वह एक दोस्त के साथ जा रहा है और वह थोड़ा देर से आएगा।

छानबीन से पता चला कि जेम्स स्मिथ उस रात Patrick Brady के ही साथ था। और वह होटल में था। दोनों ने साथ जुआ खेला और शराब पी थी। उसके बाद में होटल से निकलकर Patrick Brady के कॉटेज में पहुंच गए जो उसने किराए पर ले रखा था।

उस कॉटेज की मालिक एक औरत थी। जब उससे पूछताछ की तो पता चला जिस दिन Smith गाया। उससे अगले ही दिन Patrick Brady ने वह कॉटेज खाली कर दिया था। वह कॉटेज छोड़कर चला गया था। पुलिस ने उससे पूछा कि कोई ऐसी खास चीज जो आपने नोट किया हो।

तो उस औरत ने बताया कि मेरा एक लोहे का ट्रंक था। जो उसको कॉटेज में नहीं है। और वो ट्रंक बड़ा था इसके बाद पुलिस ने आगे की छानबीन Patrick Brady से ही शुरू की। लेकिन Patrick Brady लगातार मना करता रहा कि उसका क़त्ल से कोई ताल्लुक नहीं।

सबके ताल्लुक उस के बिजनेसमैन Holmes से जुड़े हुए थे। जिसके साथ Patrick Brady और Smith इसमें दोनों काम किया करते थे। पुलिस को लगा  कहीं ना कहीं इसमें Holmes का भी किरदार है। इसके बाद पुलिस पूछताछ करने के लिए Holmes के घर पहुंच जाते हैं।

जैसे ही यह बात Holmes को पता चलती है। तो वहां से निकल जाता है। बोट पकड़कर समंदर में चला जाता है। समुंदर में जाकर वह अपने आप को गोली मार देता है। इत्तेफाक से गोली उसके सर की हड्डी को छूकर निकल गई इसके बाद वह बच गया।

जब लोगों ने यह मंजर देखा है। तो उन्होंने पुलिस को खबर कर दी और पुलिस ने कई किलोमीटर तक उसका पीछा किया। Holmes को चारों तरफ से गहरा और उसको पकड़ कर ले गए मगर वह जख्मी हो गया था। उसको हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया।

भर्ती कराने के बाद जब वह सही हो गया तो उसके बाद पुलिस ने उससे पूछताछ की पुलिस ने उनसे पूछा कि James Smith के murder में तुम्हारा क्या हाथ है और उसकी बाकी की बॉडी कहां पर है।

Holmes ने कहा ठीक है, बताता हूं। उसने बताया कि इसमें उसका कोई रोल नहीं है। मगर मैं तुमको सब बात बताता हूं। उसने बताया कि 1 दिन Patrick Brady मेरे घर आया। घर आने के बाद उसने कहा तुमने जेम्स स्मिथ के बारे में सुना होगा। जेम्स गायब है। उसका हाथ मिला है। पर तुमने उसका दूसरा हाथ नहीं देखा। Holmes ने बताया Patrick Brady अपने साथ एक हाथ लेकर आया था। जो दाहिना हाथ था। उसने उसको टेबल पर रख दिया। उसने कहा यह स्मिथ का दूसरा हाथ है।

उसने कहा उसने बाकी की लाश को ट्रंक में रखकर समंदर में फेंक दिया है। यह हाथ में इसलिए लेकर आया हूं ताकि तुम्हें बता सकू कि मैंने  उसका कत्ल किया है। मैं तुम्हारा भी कत्ल कर सकता हूं अगर तुमने मेरी बात नहीं मानी।

उसकी डिमांड पैसे की थी। जो Holmes को ब्लैकमेल कर रहा था। क्योंकि Patrick Brady को मालूम था कि जेम्स किसी फर्जी कागजात को लेकर Holmes को ब्लैकमेल कर रहा था। मगर मैंने उसको ठिकाने लगा दिया क्योंकि वह मुझे भी ब्लैकमेल करने लगा था। अगर तुमने मुझे पैसे नहीं दिया तुम तुम्हारा भी यही हश्र होगा।

यह कहकर पैट्रिक वह हाथ Holmes के घर की टेबल पर रख कर भी चला गया। इसके बाद Holmes ने बताया कि मैं घबरा गया और उस हाथ को उठाकर समुंदर के पास गया। बोट से जाकर उस हाथ को समुंदर में फेंक दिया।

इसके बाद पुलिस कहती है कि तुम यह सारी बातें अदालत में बताओगे और 2 दिन बाद अदालत में तारीख थी।

लेकिन अगले ही दिन शाम को सिडनी के एक सुनसान इलाके में कार के अंदर Holmes की लाश मिलती है। उसकी बॉडी पर तीन निशान थे ।उसको तीन गोली मारी गई थी। पुलिस का यह मानना था कि Holmes ने पहले भी खुदकुशी करने की कोशिश की थी और यह भी खुदकुशी है।

लेकिन फोरंशिक एक्सपर्ट ने जांच की तो उन्होंने बताया कि यह खुद कुछ भी नहीं बल्कि एक कत्ल है। मगर पुलिस आखिर तक कहती रही कि यह एक खुदकुशी है। क्योंकि Holmes इज्जत दार घराने से था और उसका नाम इस मर्डर और फर्जी कारोबार में आ गया था।

क्योंकि Holmes ने अपनी बोट का भी इंश्योरेंस करा रखा था और उसने अपना भी इंश्योरेंस करा रखा था। अगर वह खुदकुशी करता तो उसके इंश्योरेंस का पैसा उसके परिवार वालों को नहीं मिलता।

कहा जाता है कि Holmes ने खुद अपनी सुपारी दी थी। सुपारी किलर से कहा था कि वह उसको तीन गोली मारे। हो सकता है, कि एक गोली मारने के बाद पुलिस उसको सुसाइड समझ ले।

खुदकुशी करने वाला आदमी खुद को तीन गोली नहीं मार सकता। मगर पुलिस इसको क़त्ल मारने के लिए तैयार नहीं है। उनका मानना था कि Holmes ने खुद अपनी सुपारी दी थी और एक से ज्यादा गोली मारने को कहा था। जिससे उसका इंश्योरेंस का पैसा उसके परिवार वालों को मिल सके और वो इंश्योरेंस की रकम बहुत बड़ी थी।

अब जो James Smith के murder का चश्मदीद गवाह था। जिसकी 12 घंटे बाद गवाही होनी थी और वह मारा गया। अब इस केस में कोई गवाह नहीं बचा था। सिर्फ एक एक्यूज बचा था और वह Patrick Francis Brady था।

Patrick Brady लगातार इस कत्ल से अपने आप को बचा रहा था। अब पुलिस के ऊपर उंगली भी उठाई गई कि इतना अहम गवाह था तो आपको उसके प्रोडक्शन देनी चाहिए थी।

सिडनी पुलिस ने अपनी इस कमी को स्वीकार किया लेकिन अदालत के सामने गवाही से पहले ही Holmes की मौत हो गई।

लेकिन अदालत की कार्यवाही शुरू हो जाती है Patrick Brady को जेम्स स्मिथ के कातिल के तौर पर सामने रखा जाता है। सार्क ने कैसे उल्टी करके उस हाथ को बाहर निकाला वह सारी चीजें अदालत के सामने बताई जाती है।

Patrick Brady के वकील अदालत में बहस करते हैं। और कहते हैं कि आप एक हाथ के बलबूते पर यह नहीं मान सकते कि वह हाथ जेम्स स्मिथ का ही है। अगर वह स्मिथ का हुआ भी तो आप यह नहीं मान सकते कि वह मर चुका है। हो सकता है कि वह बगैर हाथ के भी जिंदा हो और हो सकता है जेम्स स्मिथ के कत्ल की सुपारी किसी और ने दी हो।

इसमें एक बात और सामने आई थी कि बैंक इंश्योरेंस का एक बड़ा अफसर जो धोखाधड़ी में पकड़ा गया था। वह इसलिए पकड़ा गया था कि क्योंकि जेम्स स्मिथ ने उसके बारे में मुखबरी की थी। फिर यह बात सामने आई कि जेम्स स्मिथ पुलिस के लिए मुखबरी के तौर पर भी काम किया करता था। और बात यह सामने आई है कि जो अफसर पकड़ा गया था। उसको नौकरी से निकाल दिया गया था। शायद उसी ने James Smith के murder की सुपारी दी हो।

मगर वह साबित नहीं हो पाए क्योंकि बाकी लाश मिली नहीं थी। इसके बाद लोगों ने समुद्र को छान मारा मगर ना तो वह ट्रंक नहीं मिला और ना ही स्मिथ की लाश की कोई हिस्सा मिला।

अदालत में वकील की दलील यह थी कि एक हाथ मिलने से किसी के कत्ल की तस्दीक नहीं की जा सकती। हो सकता है, वह एक हाथ के बगैर भी जिंदा हो और जब तक लाश ना मिल जाए तो Patrick Brady को James Smith का कातिल नहीं कहा जा सकता। अदालत ने इस दलील को मान लिया और कहा कि ऐसा मुमकिन है कि एक हाथ के बगैर भी वह जिंदा हो और हो सकता है कि उसका एक हाथ ही काटा गया हो और इस बुनियाद पर अदालत ने Patrick Brady को रिहा कर दिया।

हालांकि रिहाई के कुछ दिनों बाद ही तमाम फर्जी केसों में उसको फिर से गिरफ्तार कर लिया गया। लेकिन James Smith के murder को लेकर Patrick Brady के ऊपर फिर कोई मुकदमा नहीं चला और सिडनी की पुलिस इसकी छानबीन करती रहे।

1935 से लेकर 1965 आ गया और 30 साल गुजर गए और 76 साल की उम्र में Patrick Brady की मौत हो गई। मरने से पहले Patrick Brady यही कहता रहा कि James Smith का murder उसने नहीं किया। उससे उसका कोई लेना-देना नहीं और Holmes ने जो पुलिस को कहानी सुनाई वह गलत थी। Holmes ने खुदकुशी की थी या उसका कत्ल हुआ था इसका भी कोई सुराग नहीं मिला।

इस कहानी का अंजाम यह है आज हम 2020 में आ चुका हैं। James Smith का murder किसने किया यह वास्तविक राज ही है। पूरी सिडनी में इससे बड़ी कोई मर्डर मिस्ट्री नहीं है। बहुत सारी रिसर्च इसको लेकर हुए और किताबें भी लिखी गई अलग-अलग टीम ने चैलेंज के तौर पर इसको लिया मगर आज 85 साल हो गए और यह आज तक एक राज ही है।

One Reply to “जब एक शार्क ने उगला क़त्ल का राज, दुनिया की सबसे उलझी हुई मर्डर मिस्ट्री”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *