Home Hijacking भारत के सबसे बड़े रहस्य Purulia Arms Drop की कहानी Part-1

भारत के सबसे बड़े रहस्य Purulia Arms Drop की कहानी Part-1

2648
19
radarpuruliyapart-1

ये भारत के सबसे बड़े रहस्य Purulia Arms Drop की कहानी। एक विदेशी हवाई जहाज हिन्दुस्तान की एयरस्पेस में घुस जाता है, लेकिन कोई उसको पकड़ नहीं पाता। हवाई जहाज आता है, और हथियार गिराकर चला जाता है। अब यहाँ सवाल ये उठता है –

1. वे हथियार क्यों गिराये।
2. जिन्होंने हथियार गिराये वे कौन थे।
3. क्या ये सब भारत सरकार, RAW, IB, को पता था।
4. जिन लोगो को पकड़ा गया उनको उम्रकैद हुई पर बाद में सब को रिहा कर दिया गया।
5. जो इसका मैन आदमी था वो कभी पकड़ा नहीं गया।

जिस वक्त ये जहाज भारत की वायु सीमा में दाखिल हुआ उसी दिन हमारे कई सारे राडार मेंटेनन्स की वजह से बंद थे। ऐसा क्यों हुआ जो उसी वक्त हथियार गिराए गए।

Purulia Arms Drop पश्चिम बंगाल में हुआ-

बात 18 दिसम्बर 1995 की है, पश्चिम बंगाल में पुरुलिया एक जगह है। पुरुलिया की आस पास के गाँव में सुबह के वक्त कुछ लोग उठते है, और जब गाँव में जाते है तो हैरान हो जाते है, वहां देखते है की कई बड़े-बड़े बॉक्स पड़े है। अब अलग-अलग दो तीन गाँव में ऐसे बॉक्स दिखाई दिए।जब बॉक्स को खोला तो हर बॉक्स की अंदर हथियार थे जिन हथियारों में AK47, बुलेट, राकेट लॉन्चर etc. शामिल थे।

ये बात धीरे-धीरे गाँव में फैलने लगी लोग वहां पर टूट पड़े और हर कोई हथियार लेकर भागने लगा। ये बात किसी तरह लोकल पुलिस को पता चली उसके बाद डिस्ट्रिक्ट पुलिस को, उसके बाद कोलकाता और उसके बाद वहाँ के CM तक। अब बात दिल्ली PMO, RAW, IB सबको ये बात पता चल गयी। अब सब अलर्ट पर थे। वहां पर एक टीम भेजी गयी जब टीम ने हथियार देखे तो आँख फटी की फटी रह गयी । इसके बाद गाँव की तलाशी ली गयी और ऐलान किया गया की जिसके पास भी हथियार है वो जमा कर दे वरना बाद में सजा दी जायगी। जब हथियार जमा किये गए तो पता चला जिसमे 300 AK47, 15000 बुलेट, 8 राकेट लॉन्चर और भी हथियार मिले।

लोगो से जब पूछ ताछ की तो पता चला रात में एक हवाई जहाज आया था जिसकी आवाज सुनाई दी। तहक़ीक़ात से पता चला हथियार ऊपर से गिराए गए है। तब पश्चिम बंगाल में लेफ्ट की सरकार थी और Jyoti Basu वहाँ के मुख्यमंत्री थे। वहाँ पर लेफ्ट और राइट की लड़ाई चल रही थी।

उसके बाद अचानक 21 दिसम्बर 1995 को थाईलैंड से कराची जा रहा एक एयरक्राफ्ट जो मुंबई की वायु सीमा में था। जिसकी कोई परमिशन नहीं ली गयी थी तो उसको नीचे उतारा गया । एयरक्राफ्ट उतारने के बाद जब सवारी से पूछताछ की तो पता चला ये वही लोग है जिन्होंने पुरुलिया में हथियार गिराए थे। जो लोग पकडे गए थे उनमे से 5 लोग Latvia के थे और एक ब्रिटिश का था जिसका नाम Peter Bleach था । Peter के बारे में पूछताछ की तो पता चला की ये एक माफिया है और हथियारों का डीलर है और सबसे बड़ी बात ये थी की ये ब्रिटिश ख़ुफ़िया एजेंसी MI6 से भी जुड़ा हुआ है।

इसी छानबीन के दौरान पता चला की ये 6 नहीं 7 लोग थे और सातवा नाम Kim Davy जो Danmark का नागरिक था और इस एयरक्राफ्ट में ही था। जब इस एयरक्राफ्ट को नीचे उतारा गया तो मुंबई एयरपोर्ट से ही वो गायब हो गया। कहा जाता है की उसने Peter Bleach से भी अपने साथ जाने के लिये कहा था । मगर Peter Bleach ने ये कह कर मन कर दिया था की वो गिरफ्तार होना पसन्द करेगा उसके पास काफी Resource है वो छूट जायगा।

उसके बाद कहते है की Kim Davy की एक MP ने मदद की और उसको वहां से निकाल कर काठमांडू ले गए और वो वहाँ से डेनमार्क चला गया।

जिन 6 लोगो को पकड़ा गया था उनको उम्रकैद की सजा हुई सजा होने के बाद वे सभी जेल में थे लेकिन सन 2000 में राष्ट्रपति ने इनकी सजा को माफ़ कर दिया क्योंकि उन्होंने रूस की नागरिकता ले ली थी। उन 6 लोगो को छोड़ दिया गया और वे रूस चले गए । उसके बाद 4 फरवरी 2004 को Peter Bleach को भी रास्ट्रपति ने माफ़ी दे दी और ये ब्रिटिश वापस चला गया।

कहते है की इन सब की रिहाई के पीछे बाहर की ताकत थी। एक तरफ रूस ने उन 5 लोगो को रिहा कराया और फिर ब्रिटिश ने प्रेसर डाला उसके बाद Peter Bleach को भी रिहा कर दिया गया।

Purulia Arms Drop पार्ट-2 भी जरूर पढ़े…………….

19 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here